ग्रुप फोर पीपुल्स ने ली पक्षियों की सुध

बाड़मेर।
सीमा सुरक्षा बल के साथ गु्रप फोर पीपुल्स ने रण आफ कच्छ से सटी बाखासर समेत विभिन्न सीमा चैकियांे पर बेजुबान पक्षियांे को बचाने की मुहिम के तहत परिंडे लगाकर भीषण गर्मी मंे परिंदांे को जीवनदान देने की पहल की। पश्चिमी सरहद पर काफी तादाद में रंग-बिरंगे पक्षी आते है। सीमा सुरक्षा बल ने कुछ स्थानांे पर हेलमेट अथवा प्लास्टिक की बोतलांे को काटकर पानी की व्यवस्था कर रखी है। लेकिन अक्सर पानी गर्म होने से पक्षियांे की प्यास बुझाने मंे खासी दिक्कत होती थी। ऐसे मंे गु्रप फोर पीपुल्स की ओर से मिटटी के परिंडे उपलब्घ कराए जाने से अधिकतर सीमा चैकियांे पर पक्षियांे की खासी मौजूदगी देखी जा रही है।भारत-पाकिस्तान सीमा पर सीमा सुरक्षा बल के साथ गु्रप फोर पीपुल्स के कार्यकर्ताआंे ने चहचहाते रंग-बिरंगे पक्षियांे के लिए परिंडे लगाकर नया जीवनदान दिया। सीमा सुरक्षा बल की बीकेडी,भांडा,एकल, नचाताल, देवा, हाथला, दीपल समेत विभिन्न सीमा चैकियांे पर देशी-परदेशी पक्षियांे का जमावड़ा रहता है। सरहद की सुरक्षा की चिन्ता के साथ-साथ इस बार जवानांे को भीषण गर्मी मंे इन पक्षियांे की चिन्ता जता रही थी। यह पक्षी सरहद के जवानांे के सच्चे साथी है। सीमा सुरक्षा बल के जवान इन पक्षियांे के लिए पानी की उपलब्धता के लिए जतन करते रहते है। कहीं-कहीं बोतलांे को काटकर तो कहीं हेलमेट मंे पानी भरकर पक्षियांे के लिए व्यवस्थाएं की, मगर ये व्यवस्था ना के बराबर थी। ऐसे मंे गु्रप फोर पीपुल्स ने पश्चिमी सरहद की समस्त अग्रिम पोस्टांे पर पक्षियांे के लिए परिंडें बांधे। परिंडे बांधते समय जवानांे के चेहरों पर खुशी झलक रही थी। उनके प्रिय साथियांे के लिए पानी की व्यवस्था के लिए स्थाई प्रबंध हो गया। जवानांे ने बताया कि वो पोस्टांे पर जाते समय इन पक्षियांे के लिए अलग से पानी की व्यवस्था कर साथ मंे ले जाएंगे और प्रतिदिन परिंडांे मंे पानी डालेंगे। इससे सरहद पार आने वाले विभिन्न प्रजाति के पक्षियांे को भी बड़ी राहत मिलेगी।
गु्रप फोर पीपुल्स ने ब्राहमणांे की ढाणी बीकेडी पोस्ट पर सैकड़ांे की तादाद मंे छायादार पेड़ांे पर आशियाना बनाकर बैठे पक्षियांे के लिए सहायक समादेष्टा जीतेन्द्रसिंह बिष्ट एवं जवानांे ने मिलकर परिंडें बांधे। पूर्व मंे यहां हेलमेट मंे पानी भरकर रखा हुआ था। प्रचंड गर्मी के कारण इसमंे पानी उबल जाता था। अब पक्षी मिटटी के पात्रों मंे रखा ठंडा पानी पीएंगे। इसके बाद भारत-पाक सीमा पर गुजरात-पाक-बाड़मेर के अंतिम सीमा चैकी एवं अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तारबंदी के पास जितेन्द्रसिंह बिष्ट ने जवानांे तथा गु्रप सदस्यांे के साथ परिंडें बांधे। रण आफ कच्छ का क्षेत्र होने के कारण यहां सरहद पर विभिन्न प्रजाति के पक्षियांे की बहुतायत है। परिंडे लगाने से इन पक्षियांे को बड़ी राहत मिली। गु्रप सदस्यांे ने नया ताल, एकल, भांडा, दीपला, देवा, हाथला, सिंहवाल, बरनाल आदि पोस्टांे पर भी जवानांे के साथ परिंडे लगाए। गु्रप संयोजक चंदनसिंह भाटी ने बताया कि इस अभियान मंे मदन बारूपाल, ललित छाजेड़, स्वरूपसिंह भाटी, हितेश मंूदड़ा,दिग्विजयसिंह, महेन्द्रसिंह भाटी, ठाकराराम मेघवाल ने सेवाएं दी। इससे पूर्व सहायक समादेष्टा जितेन्द्रसिंह बिष्ट के साथ गु्रप संयोजक चंदनसिंह भाटी  एवं मदन बारूपाल ने पूरे अभियान के संबंध मंे विस्तार से जानकारी दी।
स्वयं के लिए लाया पानी डाला परिंडांे मंेः सीमा सुरक्षा बल के जवानांे का पक्षियांे के प्रति प्रेम का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि गु्रप फोर पीपुल्स के परिंडा अभियान के दौरान उन्हांेने अपने लिए लाया गया पानी भी उसमंे डाल दिया। उन्हांेने भरोसा दिलाया कि बेजुबान पक्षियांे को बचाने के लिए नियमित रूप से परिंडांे मंे पानी डालेंगे।

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: